Web Designer कैसे बनें, इसकी योग्यता, कोर्स और जॉब के बारें में जाने

Web Designer kaise bane पूरी दुनिया को इंटरनेट से जोड़ने का काम लाखों-करोड़ों web pages के कारण संभव हो पाया है। अब हर दिन हजारों की संख्या में new web pages create होती है लेकिन क्या आप जानते है कि web page को कौन बनाता है। web pages से मेरा तात्पर्य किसी भी website या blog को बनाना है।

web designer kaise bane

आज के समय में इंटरनेट ऑनलाइन जुडने का एक साधन बन गई है, जिससे हम अलग-अलग website के जरिये information collect कर पाते है और उस व्यक्ति से भी बात कर पाते है जिससे हम कभी मिले भी नही होते है और देखे भी नही होते है। किसी भी web page को बनाने में Web Designer का अहम रोल होती है, क्योंकि एक Web Designer ही किसी web page को Develop करता है।

इस आर्टिकल में हम आपको वेब डिज़ाइनर कैसे बने | how to become a Web Designer in hindi बताने वालें है। आप भी अपने computer skills में better करना चाहते है और अपने अनुसार किसी भी website को design करना चाहते है और इसी web designing की field में अपना career बनाना चाहते है तो तो आपको यह आर्टिकल Web Designing kya hai aur Web Designer kaise bane जरूर पढ़ना चाहिए।

वेब डिज़ाइनिंग क्या है | what is web designing in hindi

किसी भी web page को computer programming language की help से बनाना और उसका website का look अपने अनुसार रखना तथा पहले यह तय करना कि website में कौन-सा widgets किधर होगा, उसके बाद उसी strategy को अपना कर किसी एक नई web page को बनाना वेब डिज़ाइनिंग कहलाता है।

जब भी कोई user किसी भी website को open करता है और उसके front में जो website का design यानि look दिखता है उस लूक को देने का काम Web Designer का होता है। यह पहले यह तय करते है कि website किस type का होगा और इसका design कैसा होगा, इसके लिए वह किसी भी web page को develop करने से पहले website पर होने वालें अलग-अलग section को notebook पर बनाते है।

वेब डिज़ाइनर कौन होता है | who is web designer in hindi

वेब डिज़ाइनर यह वो व्यक्ति होते है जो अपने computer Markup and programming language की skills से कीस भी web page को develop करने का काम करते है। जब भी वह किसी भी website को बनाने की सोचते है तो उससे पहले यह रणनीति तय करते है कि website का Niche क्या होगा अर्थात उस website पर किस तरह का content होगा।

उसके अनुसार उसका design, feature different types के section किधर Add करना होगा और उसके look को अधिक attractive कैसे बनाया जा सकता है। यह उनकी पहली website design करने का रणनीति मे से एक होती है।

एक web designer को कई तरह का markup, programming language जैसे:- HTML (Hyper text markup language), CSS (Cascading style sheets), JavaScript, PHP (Personal Home Page), MySQL जैसी कम्प्युटर भाषा का ज्ञान होता है। उसके बाद कोई भी web designer किसी भी web page का coding लिखना start करता है।

इसके साथ ही उन्हे Photoshop, Animation, Graphic Designing का भी knowledge होती है, जिससे कि वह website को और अधिक attractive look दे पाते है। जिससे वह website बहुत ही सुंदर दिखने लग जाती है और user को उसका design अधिक पसंद आने के कारण वह website पर बार-बार visit करते रहते है।

वेब डिज़ाइनर कैसे बने | how became a web designer in hindi   

आप भी अपना कैरियर web designer के रूप में बनाना चाहते है तो आपके लिए यह career option बहुत ही अच्छी साबित हो सकती है। web designer के course को आप किसी अन्य subject की पढ़ाई करते-करते भी इसे सीख सकते है। एक सफल web designer के पीछे उसका practical work होती है। आप जितना अधिक अपने coding से web design करने का practice करेंगे, आपको उतना ही अधिक और चीज समझ में आने लगेगी।

आप एक web designer के रूप में अपना full time career बना सकते है या इसे part time job की तरह कर भी सकते है। जब आप web designer बनने के बारें में सोचते है तो आपको सबसे पहले इससे related किसी course में Diploma, Certificate या Bachelor कोर्स करना होता है उसके बाद आप और अधिक सीखना चाहते है तो web designing का master degree course भी कर सकते है। नीचे हमने आपके लिए कुछ web designing course का चयन किया है, जिसे आप कर सकते है।

Read :  Bihar Student Credit Card क्या है और इसे अप्लाई करके 4 लाख का एजुकेशन लोन कैसे पाएँ

Web Designing Diploma Course List

वेब डिज़ाइनिंग की क्षेत्र में कई तरह के डिप्लोमा कोर्स भी होती है जिस सभी कोर्स का अवधि 6 महीने से 2 साल तक की होती है। इन सभी course को करने के लिए किसी खास Qualification की जरूरत नही होती है। इसे 10th या 12th पास करने के बाद किसी भी stream के students कर सकते है। इन सभी web designing diploma course में आपको basic से web designing सिखाया जाता है। जिससे आपको computer भाषा धीरे-धीरे समझ आने लगती है।

  • Diploma in web designing
  • Diploma in Animation and web designing
  • Diploma in Graphics and web designing
  • Diploma in web development
  • Diploma in web designing and internet technology  

Web Designing certificate course list

अगर आप web designing के क्षेत्र में अधिक चीजों को बारिके से सीखना चाहते है तो आपको web designing certificate course करना चाहिए। इस तरह के कोर्स में आपको कई तरह के ऐसे software पर work करवाने का Practice करवाया जाता है, जिससे आपको web designing की क्षेत्र में काफी सहायता मिलती है। इन सभी कोर्स का duration 1 साल से 3 साल तक की बीच में होती है।  

  • Certificate in web designing
  • Certificate in web and Graphics designing
  • Certificate in web designing and 2D Animation
  • Certificate in web designing and internet technology
  • Certificate in HTML, CSS and PHP
  • Certificate in web development
  • Certificate in web designing and digital marketing 

Web designing Bachelor course list

Web designing diploma और certificate course के अलावा इसका bachelor degree courses भी होती है। जिसमें web designing का वह सभी knowledge दिया जाता है जो एक web designer को पता होनी चाहिए। इस तरह के कोर्स का duration 3 साल तक की होती है, जिसमें

  • B.Sc in Animation and web designing
  • B.Sc in Graphic and web designing
  • B.Sc in VFX and multimedia and web designing  

वेब डिज़ाइनर बनने की योग्यता | Qualification of web designer

हम अगर web designing course qualification की बात करें तो आप इन सभी कोर्स को 10th या 12th class को किसी भी stream के साथ 45% से अधिक marks लाने के बाद वेब डिज़ाइनिंग कोर्स को किया जा सकता है। आप इसके बारें में बहुत कुछ सीखना चाहते है तो आपकी इसका bachelor degree course को करना चाहिए, इसके बाद आपकी योग्यता बढ़ाने क लिए इसका master degree course कर सकते है। 

यह वो कैरियर है जिसका सीखने का कोई उम्र और किसी खास योग्यता की अवश्यकता नही होती है। आप अगर अभी बच्चे है यानि आपकी उम्र 15 साल से नीचे है फिर भी web designer का काम करना चाहते है और आपकी रुचि कम्प्युटर में अधिक है तो आप web designing का पढ़ाई कर सकते है और इसकी शुरुआत आज से ही कर सकते है।

अगर आप अधिक उम्र की हो चुके है या आपकी कोई Background Qualification नही है फिर भी आपकी रुचि कम्प्युटर में अधिक है और Computer Markup और programming language को सीखने में अधिक रुचि रखते है तो आप ऐसा कर सकते है। इसकी पढ़ाई और practical आप अपनी अन्य जॉब या पढ़ाई के साथ-साथ कुछ समय निकालकर भी कर सकते है।

वेब डिज़ाइनर बनने के फायदे | Benefits of becoming a web designer

इंसान किसी भी चीज की शुरुआत करने से पहले उसका फायदा देखता है और आने वाला भविष्य को वर्तमान से ही देखता है। इसी तरह आपके मन में यह सवाल आ सकते है कि web designer course karne ke fayde kya hai तो इसके बहुत सारे profits है नीचे नीचे देखा जा सकता है।

  • इससे आपको computer language का knowledge हो जाती है।
  • Technology की दुनिया में नई-नई जानकारी आपको पढ़ने और सीखने को मिलती है।
  • Design के क्षेत्र में आप महारत हासिल कर लेते है।
  • आपको अपना खुद से website बनाने का technique पता हो जाती है।
  • कम समय में आप इसे सीख सकते है और किसी भी उम्र के साथ इसके कोर्स को किया जा सकता है।
  • अपना web designing institute खोलकर class करवा सकते है और दूसरों के लिए website बना सकते है।
  • इसमें आप खुद का मालिक होते है और जितना अधिक सीखेंगे आप उतना ही अधिक पैसा कमा सकते है।
  • इसमें आने वालें समय में अधिक संभावना है। जिससे web designer की demand बढ़ने वाली है।   

वेब डिज़ाइनर बनने के लिए क्या सीखना होता है | web designer syllabus

Web designing एक तरह का computer soft skills है जिसे बारिके से सीखना और करना होता है। किसी भी project को बनाने के लिए उसका रणनीति तैयार करना होता है उसके बाद web page develop करना होता है। अगर हम एक web designing skill की बात करें तो उनको बहुत नई चीजे सीखना और समझना होता है जिसका लिस्ट नीचे दिया गया है:-

Read :  सबसे अच्छा कम्प्युटर कोर्स | Top 10 best computer course in hindi 2020

HTML (Hyper text markup language) :- एक web designer के रूप में आपको सबसे पहले Markup Language सीखना होता है। इसकी मदद से किसी भी website का structure बनकर तैयार होती है। इसके बिना कोई web page बन नही सकती, जब भी किसी web page को develop करने के coding किया जाता है तो सबसे पहले HTML का code से ही शुरुआत होती है।

web designing course syllabus

जैसा कि हमने आपको बताया कि यह website का structure बनाने की काम करता है। इसका अगर हम साधारण उदाहरण के रूप में देखे तो मानव कंकाल (human skeleton) एक HTML हो गया। इसे सुंदर बनाने का यानि creativity बनाने का कम दूसरा Stylist Language काम करती है।

CSS (Cascading style sheets) :- यह computer language के जरिये पहले से लिखी Markup language यानि HTML को design किया जाता है। हर एक DIV Class के अलग-अलग नाम रखकर उसे CSS के जरिये Design किया जाता है। जिससे वह web page beautiful दिखने लगता है और आकर्षक नज़र आती है।

इसे अगर हम एक साधारण उदाहरण के साथ समझे तो जैसे HTML Human skeleton जैसा structure तैयार करता तो वही CSS उसको design करने का काम करता है जिससे website पर दिख रहा content में effect आने लगती है जिससे वह बढ़िया creativity पैदा करती है।

JavaScript :- इसे shortcut में JS भी कहते है। यह website बनाने में हमारी बहुत मदद करती है। इस computer programming language के जरिये यह HTML page को amazing और interactive बना देता है।

JavaScript के जरिये website user के activity को capture करता है। अगर पहले से किसी Text या Photo में JS का क्या Hover Action लिया गया है, यह सब काम इसकी मदद से संभव हो पाती है। अगर किसी Photo पर click करते ही वह Move करने लग जाती है तो ऐसा effect JavaScript के जरिये ही संभव हो पाती है। एक वेब डिज़ाइनर को इसे अवश्य सीखना चाहिए।   

PHP (Personal home page) :- इस Language को सीखने का Demand पिछले कई सालों में बढ़ी है क्योंकि इससे website को और अधिक बढ़िया और secure बनाया जाता है। अगर आप web designing को सीखकर एक web designer के रूप में Job पाना चाहते है या खुद की web designing company open करना चाहते है तो आपको PHP सीखना ही चाहिए।    

Photoshop editing :- आजकल जितना भी website बन रही है सब modern type की बन रही है, जिससे website में use किया गया Photo को Photoshop जैसे Photo editing software के जरिये उसे बढ़िया तरीके से बनाया जाता है और सभी website का अलग-अलग Logo होती है उसे भी Photoshop के जरिये ही बनाई जाती है।

एक web designer के रूप में Photoshop और इससे जुड़ी अलग-अलग photo editing software का use करना आना चाहिए, जिससे एक बढ़िया लूक वाला photo website में लग सके, जिससे उसका look और अधिक creativity नज़र आने लगे और वह user को अधिक पसंद आने लगे।

CMS (Content Management System) :- मान लेते है आप एक website बनाना चाहते है तो असपे जो content कैसा होगा और उसे किस तरह से लिखा जाये, जिसे user को समझ में आ जाये। ऐसा ना हो कि आप किसी दूसरे website का content copy करके अपने website पर paste कर ले, इससे आपको copyright की समस्या आ जाती है।

इसलिए आपको एक web designer के रूप में Content Management system का knowledge होना बहुत ही जरूरी हो जाती है। इसे आप बड़ी ही आसानी और कम समय में सीख सकते है।

SEO (Search engine optimizations) :- जिस तरह एक वेब डिज़ाइनर को अलग-अलग चीज का ज्ञान रखना होता हिय उसी तरह उन्हे SEO का भी Knowledge लेना होता है। SEO मतलब किसी भी website को search engine में index करना यानि show कराना। जैसे Google, Yahoo, Bing इत्यादि जैसे Search engine में website का नाम लिखने के बाद उसका result show कराना।

एक web designer को किसी भी website को इस तरह से design करना होता है, जिससे User समझ पाते है और वह किसी भी Device में सही से open होने के काबिल होती है। इसके लिए उन्हे website का Header, Layout, widgets, content, footer, page, Landing page इत्यादि को इस तरह से design करना होता है, जिससे वह हर तरह के device के लिए suitable होती है। जिससे Search engine भी उसे समझ पाती है।

वेब डिज़ाइनिंग कोर्स कहाँ करें Where to do web designing course

जब आप कम्प्युटर भाषा को समझने के लिए इसका कोर्स करने का सोचते है तो आपके दिमाग में यह बात जरूर आई होगी की web designing kaha kare तो हम आपको आपको बता दे, आपके आस-पास कई ऐसी web designing institute होगी, जहाँ पर आप इसका admission लेकर अपनी पढ़ाई की शुरुआत कर सकते है। एक तरीके से कहे तो आप web designing course offline कर सकते है।

Read :  12th ke Baad Kya kare? (Career Opportunities After 12th in Hindi)

ऊपर आपने जितना भी web designing course सबका course fee अलग-अलग हो सकती है। अगर हम web designer course fee की बात करें तो आपको इसके लिए 5 हजार से 3 लाख या उससे अधिक रुपया खर्च करने पर सकते है। यह course fee आपके web designer course के ऊपर ही निर्भर करता है।  

तो वहीं online कई ऐसी website और YouTube channel है जहाँ से आप free और कुछ पैसा paid करके web designing course को कर सकते है। इसके लिए आपके पास एक computer या laptop का होना बहुत ही जरूरी हो जाती है, क्योंकि इससे आप Live practical coding skill को improve कर पाते है।

हम आपको यहा कुछ online web designing course website list देने वालें है जहाँ से आप आसानी से HTML, CSS, JavaScript, PHP, MySQL, PhotoShop इत्यादि सीख सकते है।

इन सभी के अलावा आप YouTube पर भी free में web designing का skill हिन्दी और इंग्लिश में सीख सकते है। इसके लिए आपको Mentors Adda और Learn Web Code जैसे YouTube Channel की help ले सकते है। यह सब आपको फ्री में coding करना सीखते है। 

अच्छा वेब डिज़ाइनर बनने के लिए क्या करें

जब आप computer language के जरिये किसी web page को create करना चाहते है तब आपको इस बात का अधिक ध्यान रखना होगा कि आप जितना अधिक practical coding करते समय देंगे, आपको उतना ही अधिक समझ में आयेगी और आपका रुचि इसके प्रति अधिक बढ़ने लगेगा।

हम भी एक वेब डिज़ाइनर के रूप में काम करते है हमने खुद से यह महसूस किया है कि आप CSS के जरिये website में जितना अधिक design करेंगे, आपको वह डिज़ाइन कम ही लगेगा। इसलिए आपको भी एक अच्छा web designer बनने के लिए theory से अधिक practical work करना होगा।

Best coding software for web designer  

वैसे तो internet पर बहुत सारा ऐसा software है जिससे आप HTML, CSS, JavaScript इत्यादि कि coding कर सकते है, लेकिन अगर हम Best coding software for web design कि बात करें तो Brackets, Sublime Text, Notepad++ और Visual Studio Code है। यह सभी Code editor software आपको coding करते समय आपकी बहुत मदद करते है।

जब आप code लिखना start करते है तो यह आपके language के अनुसार tag दिखाते रहता है, जिससे कम समय में और सही-सही code बिना किसी Bug के write हो पाती है। यह सभी software आपको भी जरूर पसंद आयेगे। web design करते समय इन्ही में से किसी एक का इस्तेमाल करना चाहिए।

वेब डिज़ाइनिंग कोर्स करने के बाद क्या करें | after taking a web designing course

मान लेते है आपने web designing का कोर्स complete कर लिया है और आपको सभी तरह के web page बनाने का और नई-नई idea होने लगी है और आप यह सोच रहे है कि वेब डिज़ाइनिंग के बाद क्या करें तो हम आपको बता दे आप इसके बाद खुद का computer institute, web designing service company या Job कर सकते है।

अगर आप खुद की web designing company की शुरुआत करते है तो आप अपनी मालिक खुद होंगे और कम समय में अधिक profit कमा सकते है इसे अपना profession बनाकर तो वही अगर आप इस field में जॉब करने की सोच रहें है तो आप किसी ऐसे company में Apply कर सकते है जो web designer को Hiring करना चाहती है। इंडिया में बहुत सारे ऐसे कंपनी है जो समय-समय पर designer को hire करती रहती है।

वेब डिज़ाइनर वेतन | Web designer salary

Web designing का field पूरी तरह से practical work पर ही निर्भर होती है। आप जितना अधिक coding करते है आपको उतना ही इसका knowledge बढ़ेगा और आपकी पकड़ इसमें बढ़ेगी। जिससे आपका coding skill and experience भी बढ़ेगी।

इंडिया में एक web designer को शुरुआती  नौकरी के समय कम से कम 15 हजार से अधिक वेतन दिया जाता है। यह वेतन आपकी coding skill और experience पर ही निर्भर करती है। आप जितना अधिक इस क्षेत्र में best देंगे आपकी salary उतना ही ज्यादा रहेगी। इसके बाद आपको 15 हजार से लाखो रुपया मासिक वेतन हो सकती है।

अंतिम शब्द

आपने इस Article में Web Designer कैसे बने? इसके लिए क्या-क्या सीखें? के बारें में जाना। आशा करता हूँ आपको यह जानकारी पसंद आई होगी।

आपको लगता है कि यह Information सबके साथ Share करनी चाहिए तो इसे Social Media Facebook, Whatsapp इत्यादि पर अवश्य Share करें। शुरू से अंत तक इस Article को Read करने के लिए आप सभी का तहेदिल से शुक्रिया…

11 COMMENTS

  1. Very Nice , I like your blog very much.. I also like the Theme design. All Content are ac actually properly arranged. I wish in future i will become master in blogs like you. Actually i am new in blogging so like to learn every where.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here