कैसे इस युवक ने अपनी MBA की पढाई को बीच में छोड़कर, चाय बनाकर बना करोड़पति, चलो जानते है इनके बारे में

विषय-सूची देखें

कहते है ना दोस्तों अगर आज आप मेहनत कर रहे है तो आने वाले समय में आपकी मेहनत का फल आपको जरूर मिलेगा या कहे सकते है हम कही ना कही वो हमारे लिए लकी साबित हो। जीवन में कितनी भी बड़ी मुश्किल है क्यों ना आ जाए अगर अपना लक्ष्य तय कर उसके पीछे पूरी मेहनत की जाए तो अपनी मंजिल को हासिल करना संभव होता है।  ऐसी ही कहानी मध्य प्रदेश के रहने वाले 22 वर्षीय प्रफुल्ल बिल्लोर की है। कैसे प्रफुल्ल ने अपनी मेहनत और अपने आईडिया से चाय बेचकर करोड़पति बन गया आइय जानते है की कैसे उन्होंने ये सब किया।

कैसे इस युवक ने अपनी MBA की पढाई को बीच में छोड़कर, चाय बनाकर बना करोड़पति, चलो जानते है इनके बारे में
कैसे इस युवक ने अपनी MBA की पढाई को बीच में छोड़कर, चाय बनाकर बना करोड़पति, चलो जानते है इनके बारे में

आरटीओ क्या होता है? आइए जानते है इसके बारे में What is RTO?

आज के समय में अधिकतर जहाँ युवा एमबीए (MBA) पूरी करके, एक सफल करियर बनाने का सपना देखते हैं, मगर वही एमबीए में एडमिशन (MBA Admission) ना ले पाने के कारण एक युवक ने महज आठ से दस हजार रुपए के साथ चाय की दुकान खोली और तीन वर्षों में उसने तीन करोड़ रुपए का कारोबार (Business) स्थापित करके सबको हैरान कर दिया। मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के धार (Dhar) जिले के एक छोटे से गांव के रहने वाले 20 वर्षीय प्रफुल्ल बिल्लोर (Praful Billore) ने B.COM की पढ़ाई की थी। इसके बाद वह एक प्रतिष्ठित संस्थान में एमबीए के कोर्स में एडमिशन लेना चाहते थे मगर उनको addmission नहीं मिल सका। इससे निराश प्रफुल्ल ने तब अपना खुद का व्यवसाय शुरू करने की का मन बना लिए। इसी सोच के साथ वो गुजरात के अहमदाबाद (Ahmedabad) जा पहुंचे। यही से शुरू होती उनकी कामयाबी की कहानी।

Read :  ITI Karne Ke Baad Kya Kare | What to Do After ITI

वर्ष 2017 में उन्होंने अपने पिता से आठ से दस हजार रुपए उधार लेकर सड़क किनारे चाय की थड़ी लगा लिए। प्रफुल्ल ने मिस्टर बिल्लोर, एमबीए चायवाला के साथ अपनी दुकान का नामकरण किया। सड़क के किनारे चाय की दुकान से शुरुआत करने वाले प्रफुल्ल ने फिर मात्र तीन साल में तीन करोड़ रुपए का कारोबार करके दिखा दिए। अपने व्यवसाय के पहले दिन उन्होंने 150 रुपए की बिक्री की थी उन्होंने कई नई चीजों को करने का प्रयास किया जिसके तहत राजनीतिक रैलियों में चाय बेचने का भी कार्य उन्होंने किया।

माता-पिता ने किया मना

कैसे इस युवक ने अपनी MBA की पढाई को बीच में छोड़कर, चाय बनाकर बना करोड़पति, चलो जानते है इनके बारे में
कैसे इस युवक ने अपनी MBA की पढाई को बीच में छोड़कर, चाय बनाकर बना करोड़पति, चलो जानते है इनके बारे में

चेन्नई सुपर किंग्स का मालिक कौन है? Who is the owner of Chennai Super Kings?

अपने चाय के धंधे के पहले दिन वो सिर्फ 150 रुपए कमाए लेकिन वह इससे निराश नहीं हुए बल्कि प्रफुल्ल बिल्लोर ने लगातार प्रयास करता गया और समय के साथ-साथ उसकी चाय की दुकान काफी अच्छी चलने लगी। प्रफुल्ल ने एक इंटरव्यू के दौरान बताया कि उन्होंने जब अपना एमबीए छोड़ा और अपने इस आइडिया के बारे में अपने परिवार वालों को बताया तो उन्होंने इसका विरोध किया। यहां तक कि उनके दोस्त भी इस दौरान उनका मजाक बनाया करते थे। लेकिन प्रफुल्ल बिल्लोर ने माता-पिता के फैसले को गलत साबित करते हुए और अपनी मेहनत को जारी रखते हुए आज वह इस मुकाम तक पहुंचे है। आपको जानकार ख़ुशी होगी की आज पुरे भारत में इनकी ब्रांच MBA Chai Wala में मौजूद है। 

तो दोस्तों ये कहानी थी प्रफुल्ल बिल्लोर की कैसे उन्होंने अपनी मेहनत्त और अपने आत्मविश्वास से एक सफल बिजनेसमैन बने। इन्हे MBA Chai Wala के नाम से अपने बिजनेस की शुरुआत की थी। 

Leave a Comment